Causes of Throat Infection Home Remedies Symptoms and Avoidance(गले के संक्रमण का कारण घरेलू उपचार लक्षण और परहेज)

 Throat Infection ( गले का संक्रमण)



As soon as the weather changes, so does the complaint of infection like sore throat, it is a common disease. As soon as there is a throat infection, the person has a lot of difficulty in speaking and eating anything, let us tell you that there are many home remedies for throat infection by which you can get relief from it.

जैसे ही मौसम में बदलाव आता है वैसे ही गले में दर्द जैसी संक्रमण की शिकायत आने लगती है यह एक आम बीमारी है गले में संक्रमण होना उचित देखभाल ना होने के कारण बदलते मौसम में लोग रोगों की चपेट में आसानी से आ जाते हैं जैसे किसी व्यक्ति के गले में संक्रमण होते ही व्यक्ति को बोलने में तथा कुछ भी खाने में बहुत तकलीफ होती है आपको बता दें कि गले के संक्रमण का बहुत सारे घरेलू उपचार है जिससे आप करके इससे राहत पा सकते हैं

How is throat infection caused? (कैसे होता है गले का संक्रमण ?)


Throat infection is the problem that comes in the upper respiratory system in our body, this disease enters our body through dirty water and polluted food, polluted environment like dust and air pollution and bacteria also cause throat infection.

हमारे शरीर में ऊपरी स्वसन तंत्र में आने वाली समस्या को गले में संक्रमण कहते हैं यह बीमारी गंदे जल एवं प्रदूषित भोजन से हमारे बॉडी में प्रवेश करता है प्रदूषित पर्यावरण जैसे धूल कर दें तथा वायु प्रदूषित और बैक्टीरिया के वजह से भी गले में संक्रमण होता है 

How to know the symptoms of throat infection?(कैसे जाने गले के संक्रमण के लक्षण को?)

These are the symptoms of throat infection:
1.Difficulty eating or drinking anything.



2.sore throat and swelling
3.The voice already changes, the heaviness comes
4.Due to this sometimes fever and cough also occur.
5.Constant loss of water in the throat all the time Dry throat
6.There is also a pain in the head



यह लक्षण होते हैं गले के संक्रमण के:
1.किसी भी चीज को खाने में या पीने में कठिनाई होती है
2.गले में दर्द और सूजन होता है
3.आवाज पहले से बदल जाती है भारीपन आ जाता है
4.इसकी वजह से कभी कभी बुखार और खांसी भी हो जाता है
5.लगातार हर समय गले में पानी की कमी होना गला सूखना 
6.सर में दर्द भी होता है

What causes throat infection(किस कारण से गले में संक्रमण होता है)

There can be many reasons for a sore throat which are listed below:
1.Throat infection can also occur due to cold.
2.Throat infection can also be caused by smoking tobacco or exposure to smoke.
3.Throat infection is also caused by a virus called rhinovirus.
4.Throat infection also occurs due to whooping cough.
5.Home remedies to treat throat infection.

गले में खराश के कई कारण हो सकते हैं जो के नीचे मे लिखे से होते हैं:

1.सर्दी जुखाम के वजह से भी गले में संक्रमण हो जाता है

2.धूम्रपान तंबाकू या धुआं के संपर्क में आने से भी गले में संक्रमण हो जाता  है।

3.एक वायरस की वजह से भी गले में संक्रमण हो जाता है जिसका नाम है राइनोवायरस।

4.काली खांसी की वजह से भी गले में  संक्रमण हो जाता है

Home remedies to treat throat infection(घरेलू उपचार से गले के संक्रमण के इलाज के उपाय।)

By adopting these ideas, you can easily cure a throat infection at your home:


Muleti -

To eliminate sore throat, liquorice acts like an elixir, breaking it into small lumps and chewing it in your mouth in this way gives relief from swelling and pain in the throat very soon.



मुलेठी -

गले की खराश को खत्म करने के लिए मुलेठी एक अमृत के समान कार्य करता है इसको छोटे-छोटे गांठ में तोड़कर अपने मुंह में इस तरह चबाने से गले की सूजन एवं दर्द से बहुत जल्द ही राहत मिलती है


 Ginger and Clove-


Ginger and Long is considered as an Ayurvedic medicine which also has antibacterial properties and suck a grain of Long in the mouth.
Mix some ginger in a cup of water and make it lukewarm and drink it mixed with honey twice a day, it will give great relief to your sore throat.



Apple vinegar-


Putting two spoons of apple cider vinegar in warm water gives great relief to our sore throat, because the acidic jaggery present in apple vinegar kills the bacteria present in our throat.

And you gargle this with a spoonful of salt in hot water, adding a spoon of apple cider vinegar will also give a lot of relief to your sore throat.


सेब के सिरके-


दो चम्मच सेब के सिरके को गर्म पानी में डालकर हमारे गले की खराश में बहुत राहत मिलती है चौकी क्योंकि  सेब के सिरके में मौजूद अम्लीय गुड़ के कारण हमारे गले में उपस्थित बैक्टीरिया को मार देता है

और इसको आप गर्म पानी में एक चम्मच नमक के साथ सेब के सिरके को एक चम्मच डालकर गरारे करें से भी आपके गले की खराश में काफी राहत मिलेगी

Fig -

Boil 5-6 figs in water in a bowl and boil it until the water becomes half and filter it and drink it hot immediately, do this 1-2 times a day, you will definitely get it quickly. will rest


अंजीर -

5-6 अंजीर को एक भगोना में पानी में डालकर उबालें और उसे तब तक उबालें जब तक कि पानी आधा ना हो जाए और उसे छानकर तुरंत ही गर्म गर्म  ही पिया जाए ऐसा आप दिन भर में 1-2 बार करें आपको निश्चित रूप से जल्दी आराम मिलेगा.

Basil-


Take five to seven leaves of basil, take four to five black pepper in a glass and make a decoction from it and consume it two to three times a day, you will get relief very soon.

तुलसी-


तुलसी तुलसी की पांच से सात पत्तियां लेकर उसे एक गिलास में चार से पांच डाला काली मिर्च लेकर उससे काढ़ा बना लें और दिन में दो से तीन बार सेवन करें बहुत जल्दी आपको आराम मिल जाएगा

Honey -

Honey is a type of medicine in which very beneficial properties are found to reduce inflammation and irritation of the throat.

शहद -

शहद एक प्रकार का ऐसा औषधि है जिसमें गले की सूजन और जलन को कम करने वाले बहुत ही लाभदायक गुण पाए जाते हैं इससे भी आप इस्तेमाल करके गले की सूजन और दर्द को बहुत जल्दी ठीक कर सकते हैं

Garlic -


Garlic is a very effective medicine, in which antibacterial elements are found inside, which proves to be very helpful in removing the infection of our throat, garlic gets the benefit of sucking the bud of garlic by pressing it between your teeth.


लहसुन -


लहसुन बहुत ही असरदार औषधि है जिसके अंदर एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं जो कि हमारे गले के संक्रमण को दूर करने में काफी मददगार साबित होता है लहसुन को कली लहसुन की कली को अपने दांतों के बीच दबाकर चूसने लाभ मिलता है.

Apart from this, there are other home remedies for throat infection.(इसके अलावा और भी हैं घरेलू उपचार गले के संक्रमण के.)


1.Gargling after adding salt to a cup of water after heating is very beneficial in throat infection.

एक कप पानी में नमक को डालकर गर्म करने के बाद गरारे करने से गले के संक्रमण में बहुत लाभ मिलता है।

2.Mix the juice of half a lemon and half a glass of warm water and drink it by adding a spoonful of honey.

आधे नींबू के रस और आधा गिलास गर्म पानी को मिलाकर उसमें एक चम्मच शहद डालकर पिए।

3.Green tea is also very beneficial to prevent throat infection.

ग्रीन टी भी गले के संक्रमण को रोकने के लिए काफी लाभदायक होता है
4.Boil ginger basil, black pepper and cloves in a cup of water and make tea by adding some tea leaves to it, this tea benefits throat pain and breath very quickly.
अदरक तुलसी काली मिर्च और लौंग को एक कप पानी में डालकर उबालें और उसमें थोड़ी सी चाय पत्ती डालकर चाय बना लें यह चाय गले के दर्द और सांस को बहुत जल्दी से लाभ पहुंचाता है

5.If you have a throat infection, then chew fennel 4-5 times a day and eat it.

यदि आपके गले में संक्रमण हो जाए तो दिन में सौंफ को 4-5 बार चबा चबा कर खाएं.

Special care should be taken of your diet during throat infection.(आपके खानपान का विशेष ध्यान रखना चाहिए गले में संक्रमण के दौरान.)



Something like this should be your diet at the time of throat infection-
 1.drink hot water whenever
Put ginger in green tea and drink it 3 to 5 times a day.

2.To avoid feeding this infection, do not share the infected person's food with anyone.

3.What should be avoided during throat infection-

4.Do not eat more and more fried roasted food.
Do not use cold things like ice cream ice curd at all.

5.Stay away from infected and polluted environments, and also from food in such places.

6.You should walk around in polluted air with a mask on.
कुछ इस तरह का होना चाहिए आपका खान-पान गले के संक्रमण के समय-
 1.जब भी पिए गर्म पानी  पिए
अदरक को ग्रीन टी में डालकर दिन में 3 से 5 बार जरूर पीना चाहिए।

2.इस संक्रमण को खिलाने से बचने के लिए संक्रमित व्यक्ति को उसका खाना किसी को शेयर ना करें

3.क्या क्या परहेज करना चाहिए गले के संक्रमण के समय-

4.ज्यादा से ज्यादा तला  भुना  हुआ भोजन ना करें.
ठंडी चीज जैसे आइसक्रीम बर्फ दही  इन सब चीजों का बिल्कुल भी उपयोग ना करें.

5.संक्रमित और प्रदूषित वातावरण, से जुड़े और वैसे  जगह के भोजन से भी दूरी बनाए ।

6.आपको प्रदूषण युक्त वायु में मास्क लगाकर ही घूमना चाहिए।

Post a Comment

Previous Post Next Post